जमा मस्जिद को लेकर सियासत तेज, तोड़ने की उठ रही मांग

0
136
महानगर की ऐतिहासिक ऊपरकोट स्थित जामा मस्जिद को लेकर नगर निगम द्वारा आरटीआई में दिया गया जवाब सुर्खियों में है। नगर निगम ने आरटीआई के जवाब में इसे सार्वजनिक संपत्ति के साथ-साथ शहर की ऐतिहासिक धरोहर बताया है। इसी तथ्य को लेकर सियासत तेज हो गई है। भाजपा नेता सार्वजनिक संपत्ति से जामा मस्जिद को हटाने की मांग कर रहे हैं। इसके जवाब में सपा नेता प्रशासन को ऐसे मुद्दों पर सख्त कदम उठाने की बात कह रहे हैं। इस मामले में नगर निगम बैकफुट की स्थिति में है।
जामा मस्जिद को लेकर सियासत तेज होने की शुरुआत आरटीआई एक्टिविस्ट पंडित केशव देव शर्मा को नगर निगम की ओर से दिए गए जवाब से हुई है। निगम ने जवाब में कहा है कि ऊपरकोट पर 300 साल पहले जामा मस्जिद का निर्माण सार्वजनिक जगह पर हुआ था। यह मस्जिद ऐतिहासिक धरोहर है, जिसमें इस मस्जिद का मालिकाना हक भी किसी का नहीं दर्शाया गया है। आरटीआई का जवाब मिलने के बाद केशव देव ने मस्जिद को अवैध बताते हुए तत्काल तोड़ने के लिए डीएम को पत्र लिखा है। उन्होंने कहा है कि मस्जिद नहीं तोड़ी गई तो वह कोर्ट की शरण लेंगे। जामा मस्जिद का निर्माण वर्ष 1724 में कोल तहसील के गवर्नर रहे साबित खान ने शुरू कराया था जो कि वर्ष 1728 में बनकर तैयार हो गई थी।
जो अवैध है, उसे टूटना चाहिए : शकुंतला
भाजपा नेता एवं पूर्व महापौर शकुंतला भारती ने कहा कि जामा मस्जिद को लेकर नगर निगम द्वारा दिए गए आरटीआई के जवाब में मस्जिद को अवैध ठहराया गया है। इसलिए जो अवैध है उसे टूटना चाहिए। चाहे मस्जिद हो या कुछ और। उन्होंने कहा कि निश्चित तौर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का बुलडोजर यहां भी चलेगा। बुलडोजर लगातार अवैध निर्माण को ढहा रहा है। उन्होंने कहा कि आरटीआई के आधार पर जामा मस्जिद को लेकर जो सच्चाई है उसके लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखेंगी और सभी वस्तुस्थिति से अवगत कराएंगी।

भाजपाइयों का बिगड़ चुका है मानसिक संतुलन : जमीर उल्लाह
सपा के पूर्व विधायक जमीर उल्लाह खान ने कहा कि इस तरह की बात करने वाले भाजपाइयों का मानसिक संतुलन बिगड़ गया है। जामा मस्जिद करीब 300 साल पुरानी है, जबकि नगर निगम को बने अभी 40 वर्ष हुए हैं। इनके पास कोई मुद्दा नहीं है। पहले यह बताएं कि महंगाई कहां जा रही है। नौजवानों के पास नौकरी नहीं है। इनके पास सिर्फ यही है। मंदिर के पेपर दिखाओ और मस्जिद के पेपर दिखाओ। लाल किले की जगह किसकी है। पार्लियामेंट की जगह किसकी है। अब हम सभी लोगों को देश बचाना पड़ेगा।
देश में कांग्रेस और भाजपा की हुकूमत रही हैं। अटल बिहारी वाजपेयी के कार्यकाल में कभी इस तरह की आवाज जामा मस्जिद को लेकर नहीं उठी। पता नहीं कौन सी तारीख लाए हैं, क्या कोई सुबूत पेश कर पाएंगे। इस तरह की बातें बकवास है।

-मोहम्मद खालिद हमीद, शहर मुफ्ती
नगर आयुक्त का बयान
-जामा मस्जिद के सार्वजनिक भूमि पर बने होने के संबंध में मांगी गई आरटीआई के आधार पर भ्रामक सूचना प्रसारित की जा रही है। अलीगढ़ शहर गंगा जमुनी तहजीब, ताला और तालीम का शहर है। कुछ असामाजिक तत्व बिना किसी साक्ष्य के कूटरचित तत्वों को प्रस्तुत कर रहे हैं। नगर निगम महानगर को स्वच्छ, सुंदर बनाने के लिए प्रयासरत है, जो असामाजिक तत्व बिना किसी ठोस साक्ष्य के शहर की फिजा खराब कर रहे हैं। नगर निगम ऐसी भ्रामक सूचनाओं का पूर्ण रूप से खंडन करता है।
-गौरांग राठी, नगर आयुक्त।
संजय श्रीवास्तव- समूह सम्पादक (9415055318)
शिविलिया पब्लिकेशन- लखनऊ,
अनिल शर्मा- निदेशक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here