थानेदार सुसाइड केस: वसूली को लेकर दबाव बनाते थे एसपी ! जानें खुदकुशी की वजह

0
81
यंग भारत ब्यूरो

पलामू. झारखंड के पलामू में थानेदार द्वारा की गई खुदकुशी का मामला उलझता ही जा रहा है. अपने बेटे को गंवाने वाले परिवार ने आत्महत्या की इस घटना को लेकर एसपी, डीटीओ सहित अन्य अफसरों पर ंसंगीन आरोप लगाए हैं. पलामू के नावाबाज़ार के पूर्व थाना प्रभारी लालजी यादव के आत्महत्याकी घटना के बाद शव का पोस्टमार्टम (Postmortem) कराया गया लेकिन इससे परिजन नाखुश हैं. लालजी यादव के परिजनों ने इस मामले में पलामू के एसपी, डीटीओ और विश्रामपुर के DSP पर गम्भीर आरोप लगाए हैं.

लालजी यादव की मौत के कारण माहौल तनावग्रस्त बना हुआ है. पोस्टमार्टम के दौरान शहर के थाना प्रभारी द्वारा मृतक के परिजनों के साथ धक्का-मुक्की भी की गयी है. परिजनों का आरोप है कि उनकी जानकारी के बिना ही पोस्टमार्टम कर दिया गया है. लालजी यादव के परिजनों का आरोप है कि पलामू डीटीओ द्वारा थाना प्रभारी रहे लालजी यादव से अवैध वसूली करने को कहा गया था. वसूली नहीं करने पर डीटीओ ने इसकी शिकायत डीएसपी से की और फिर एसपी ने मिलकर ही थाना प्रभारी को निलम्बित किया.
लालजी के परिजनों ने बताया कि सस्पेंड होने के कारण वो लगातार में थे और आख़िरकार उन्होंने आत्महत्या कर ली. फिलहाल लालजी यादव का शव पलामू से उनके पैतृक घर साहेबगंज भेज दिया गया है. परिजनों के आवेदन पर पुलिस ने आगे की कार्रवाई करने की बात कही है. परिजनों के आवेदन पर शव का फिर से पोस्टमार्टम भी किया जा सकता है, ऐसी संभावना जताई जा रही है.
दूसरी तरफ इस घटना के बाद पलामू पुलिस ने आत्महत्या के कारणों में बूडमु थाने में मालखाने के चार्ज से सम्बंधित विवादों को कारण के रूप में बताया था मगर रांची ग्रामीण एसपी ने किसी भी तरह के विवाद से इनकार किया है, जिसके बाद मामला तूल पकड़ता जा रहा है. परिजनों द्वारा लगातार अब इस घटना की सीबीआई जांच की मांग की जा रही है. मालूम हो कि मंगलवार को पूर्व थाना प्रभारी का शव थाना स्थित क्वार्टर में फांसी के फंदे से लटकता मिला थी. मृतक 2021 बैच के दारोगा थे.
संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here