पुलिस ने शिवपाल के करीबी गैंगेस्टर को दबोचा

0
74
कानपुर: चकेरी से गैंगेस्टर में फरार चल रहा शिवपाल यादव का करीबी दीपक यादव को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। कोर्ट में पेश करने के बाद उसे जेल भेज दिया गया। आपको जानकर हैरत होगी कि फरारी के दौरान अपने रसूख के दम पर दीपक ने कानपुर देहात के अकबरपुर ब्लॉक से ब्लॉक प्रमुख का चुनाव लड़ा था। महज चार वोटों से वह चुनाव हारा था। चुनाव लड़ने के दौरान पुलिस से साठगांठ अच्छी होने के चलते उस पर किसी ने हाथ नहीं डाला था।
करोड़ों की सरकारी जमीनें सोसाइटी बनाकर बेच डाला
रेलबाजार थाना प्रभारी रवि श्रीवास्तव ने बताया कि दीपक यादव मूल रूप से कानपुर देहात अकबरपुर के नरिया का रहने वाला है। उसने रामादेवी में भी अपनी कोठी बना रखी है। दीपक ने दबंगई के बल पर सरकारी और विवादित जमीनों पर कब्जे करता है। इसी के चलते दीपक ने कम समय में करोड़ों की अकूत संपत्ति जुटा ली। अपने रसूख के दम पर दीपक फरारी के दौरान कानपुर देहात के अकबरपुर ब्लाक से ब्लॉक प्रमुख का चुनाव लड़ा था। ग्राम पंचायत सदस्य (बीडीसी) पर लाखों रुपए लुटाए थे, लेकिन चार वोट से दीपक चुनाव हार गया था। पुलिस के डर से वह अपना भी वोट नहीं डाल सका था। पुलिस को चकमा देकर यह लंबे समय से फरार चल रहा था। दीपक पर लगे गैंगस्टर एक्ट की विवेचना कर रहे थाना रेलबाजार प्रभारी को सूचना मिली कि दीपक लखनऊ के बनी बंथरा में मौजूद है। तुरंत वह यहां से मय फोर्स के रवाना हुए और उसे बुधवार को गिरफ्तार किया। दीपक पर 15 हजार रुपये का इनाम भी घोषित था। गिरफ्तारी करने वाली टीम में इंस्पेक्टर रवि श्रीवास्तव, हेड कांस्टेबल आदर्श सिंह, विपिन कुमार, कफील अहमद, अकबर अली, विपन कुमार शामिल रहे।
शिवपाल का करीबी है दीपक यादव
जांच में पता चला है कि दीपक यादव शिवपाल का बेहद करीबी है। इसी का फायदा उठाकर उसने सपा शासन काल में सबसे ज्यादा जमीनों पर कब्जे कर करोड़ों रुपए कमाए थे। दीपक ने अपने फेसबुक अकाउंट पर भी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के मुखिया शिवपाल यादव के साथ कई तस्वीरें शेयर की हैं। इतना ही नहीं शिवपाल के बेटे का भी दीपक यादव के घर आना-जाना है। इसकी भी तस्वीरें उसने अपने फेसबुक अकाउंट पर शेयर की थी।
अपनी अय्याशी को लेकर चर्चा में रहता है दीपक
जमीनों का काला धंधा करके करोड़ों रुपए कमाने वाला दीपक अपनी अय्याशी को लेकर अक्सर चर्चा में रहता है। उसके साथ दो पर्सनल असिस्टेंट युवतियां रहती हैं। जो उसके खाने से लेकर एक-एक चीज का ख्याल रखती हैं। यहां तक उसे सिगरेट पीने के लिए सिगरेट मुंह में लगाने से लेकर लाइटर जलाने का काम भी उसकी असिस्टेंट करती हैं। देर रात तक पार्टियां करना और क्लबों में जाने का दीपक शौकीन है। अपनी इन्हीं सब हरकतों को लेकर अक्सर वह चर्चा में रहता है। सालों से वह खुलेआम घूम रहा था। दबाव पड़ने पर पुलिस ने उसे गिरफ्तार करके जेल भेजा
संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.
सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here